Thursday, June 13, 2013

आयुर्वेदिक दोहे - an Ayurveda rhyming couplet in poetry

Doha is a form of self-contained rhyming couplet in poetry. 
A Doha is a couplet consisting of two lines, each of 24 instants (Matras). 
Each line has 13 instants in first part and 11 instants in the second. 
A short letter is counted as one instance (Matra) and long letter as two instants (Matras). 
Here are some Ayurveda Doha for readers-->>>

आयुर्वेदिक दोहे
1.जहाँ कहीं भी आपको,काँटा कोइ लग जाय।  दूधी पीस लगाइये, काँटा बाहर आय।।
2.मिश्री कत्था तनिक सा,चूसें मुँह में डाल। मुँह में छाले हों अगर,दूर होंय तत्काल।।
3.पौदीना औ इलायची, लीजै दो-दो ग्राम।  खायें उसे उबाल कर, उल्टी से आराम।।

4.छिलका लेंय इलायची,दो या तीनगिराम। सिर दर्द मुँह सूजना,लगा होय आराम।।

5.अण्डी पत्ता वृंत पर, चुना तनिकमिलाय। बार-बार तिल पर घिसे,तिलबाहर आ जाय।।

6.गाजर का रस पीजिये,आवश्कतानुसार। सभी जगह उपलब्धयह,दूर करे अतिसार।।

7.खट्टा दामिड़ रस, दही,गाजर शाकपकाय। दूर करेगा अर्शको,जो भी इसको खाय।।

8.रस अनार की कली का,नाक बूँद दो डाल। खून बहे जो नाक से, बंद होय तत्काल।।

9.भून मुनक्का शुद्ध घी,सैंधा नमकमिलाय। चक्कर आना बंदहों,जो भी इसको खाय।।

10.मूली की शाखों का रस,ले निकालसौ ग्राम। तीन बार दिन में पियें,पथरी से आराम।।

11.दो चम्मच रस प्याजकी,मिश्री सँग पी जाय। पथरी केवलबीस दिन,में गल बाहर जाय।।

12.आधा कप अंगूर रस, केसरजरा मिलाय। पथरी से आराम हो,रोगी प्रतिदिन खाय।।

13.सदा करेला रस पिये,सुबहा हो औशाम। दो चम्मच की मात्रा, पथरी सेआराम।।

14.एक डेढ़ अनुपात कप, पालक रसचौलाइ। चीनी सँग लें बीसदिन,पथरी दे न दिखाइ।।

15.खीरेका रस लीजिये,कुछ दिन तीस ग्राम। लगातार सेवन करें, पथरी से आराम।।

16.बैगन भुर्ता बीज बिन,पन्द्रह दिनगर खाय। गल-गल करकेआपकी,पथरी बाहर आय।।

17.लेकर कुलथी दाल को,पतली मगरबनाय। इसको नियमित खायतो,पथरी बाहर आय।।

18.दामिड़ (अनार) छिलका सुखाकर,पीसे चूरबनाय। सुबह-शाम जल डाल कम,पी मुँह बदबू जाय।।

19. चूना घी और शहद को, ले सम भागमिलाय। बिच्छू को विष दूर हो,इसको यदि लगाय।।

20. गरम नीर को कीजिये, उसमें शहदमिलाय। तीन बार दिन लीजिये,तो जुकाम मिट जाय।।

21. अदरक रस मधु(शहद) भाग सम, करेंअगर उपयोग। दूर आपसे होयगा, कफऔ खाँसी रोग।।

22. ताजे तुलसी-पत्र का, पीजे रस दसग्राम। पेट दर्द से पायँगे, कुछ पलका आराम।।

23.बहुत सहज उपचार है, यदि आग जलजाय। मींगी पीस कपास की, फौरनजले लगाय।।

24.रुई जलाकर भस्म कर, वहाँ करेंभुरकाव। जल्दी ही आराम हो, होयजहाँ पर घाव।।

25.नीम-पत्र के चूर्ण मैं, अजवायन इक ग्राम। गुण संग पीजै पेट के, कीड़ों से आराम।।

26.दो-दो चम्मच शहद औ, रस ले नीमका पात। रोग पीलिया दूर हो, उठे पिये जो प्रात।।

27.मिश्री के संग पीजिये, रस ये पत्ते नीम। पेंचिश के ये रोग में, काम न कोई हकीम।।

28.हरड बहेडा आँवला चौथी नीम गिलोय, पंचम जीरा डालकर सुमिरन काया होय॥

29.सावन में गुड खावै, सो मौहर बराबर पावै॥

Some more I got are -
दोहावली...... बहुत की काम की जानकारी....

दही मथें माखन मिले, केसर संग मिलाय, होठों पर लेपित करें, रंग गुलाबी आय..

बहती यदि जो नाक हो, बहुत बुरा हो हाल, यूकेलिप्टिस तेल लें, सूंघें डाल रुमाल..

अजवाइन को पीसिये , गाढ़ा लेप लगाय, चर्म रोग सब दूर हो, तन कंचन बन जाय..

अजवाइन को पीस लें , नीबू संग मिलाय, फोड़ा-फुंसी दूर हों, सभी बला टल जाय..

अजवाइन-गुड़ खाइए, तभी बने कुछ काम, पित्त रोग में लाभ हो, पायेंगे आराम..

ठण्ड लगे जब आपको, सर्दी से बेहाल, नीबू मधु के साथ में, अदरक पियें उबाल..

अदरक का रस लीजिए. मधु लेवें समभाग, नियमित सेवन जब करें, सर्दी जाए भाग..

रोटी मक्के की भली, खा लें यदि भरपूर, बेहतर लीवर आपका, टी० बी० भी हो दूर..

गाजर रस संग आँवला, बीस औ चालिस ग्राम, रक्तचाप हिरदय सही, पायें सब आराम..
१०
शहद आंवला जूस हो, मिश्री सब दस ग्राम, बीस ग्राम घी साथ में, यौवन स्थिर काम..
११
चिंतित होता क्यों भला, देख बुढ़ापा रोय, चौलाई पालक भली, यौवन स्थिर होय..
१२
लाल टमाटर लीजिए, खीरा सहित सनेह, जूस करेला साथ हो, दूर रहे मधुमेह..
१३
प्रातः संध्या पीजिए, खाली पेट सनेह, जामुन-गुठली पीसिये, नहीं रहे मधुमेह..
१४
सात पत्र लें नीम के, खाली पेट चबाय, दूर करे मधुमेह को, सब कुछ मन को भाय..
१५
सात फूल ले लीजिए, सुन्दर सदाबहार, दूर करे मधुमेह को, जीवन में हो प्यार..
१६
तुलसीदल दस लीजिए, उठकर प्रातःकाल, सेहत सुधरे आपकी, तन-मन मालामाल..
१७
थोड़ा सा गुड़ लीजिए, दूर रहें सब रोग, अधिक कभी मत खाइए, चाहे मोहनभोग.
१८
अजवाइन और हींग लें, लहसुन तेल पकाय, मालिश जोड़ों की करें, दर्द दूर हो जाय..
१९
ऐलोवेरा-आँवला, करे खून में वृद्धि, उदर व्याधियाँ दूर हों, जीवन में हो सिद्धि..
२०
दस्त अगर आने लगें, चिंतित दीखे माथ, दालचीनि का पाउडर, लें पानी के साथ..
२१
मुँह में बदबू हो अगर, दालचीनि मुख डाल, बने सुगन्धित मुख, महक, दूर होय तत्काल..
२२
कंचन काया को कभी, पित्त अगर दे कष्ट, घृतकुमारि संग आँवला, करे उसे भी नष्ट..
२३
बीस मिली रस आँवला, पांच ग्राम मधु संग, सुबह शाम में चाटिये, बढ़े ज्योति सब दंग..
२४
बीस मिली रस आँवला, हल्दी हो एक ग्राम, सर्दी कफ तकलीफ में, फ़ौरन हो आराम..
२५
नीबू बेसन जल शहद , मिश्रित लेप लगाय, चेहरा सुन्दर तब बने, बेहतर यही उपाय..
२६.
मधु का सेवन जो करे, सुख पावेगा सोय, कंठ सुरीला साथ में , वाणी मधुरिम होय.
२७.
पीता थोड़ी छाछ जो, भोजन करके रोज, नहीं जरूरत वैद्य की, चेहरे पर हो ओज..
२८
ठण्ड अगर लग जाय जो नहीं बने कुछ काम, नियमित पी लें गुनगुना, पानी दे आराम..
२९
कफ से पीड़ित हो अगर, खाँसी बहुत सताय, अजवाइन की भाप लें, कफ तब बाहर आय..
३०
अजवाइन लें छाछ संग, मात्रा पाँच गिराम, कीट पेट के नष्ट हों, जल्दी हो आराम..
३१
छाछ हींग सेंधा नमक, दूर करे सब रोग, जीरा उसमें डालकर, पियें सदा यह भोग 

 Guruji Goswami...

0 comments:

Post a Comment